Punjabi bhasha ki lipi kya hai | पंजाबी भाषा की लिपि क्या है

punjabi bhasha ki lipi kya hai (पंजाबी भाषा की लिपि क्या है) : आज के इस लेख मे पंजाबी भाषा की लिपि क्या है, गुरमुखी लिपि का अर्थ, पंजाबी भाषा क्या है? पंजाबी भाषा का अर्थ, punjabi bhasha, punjabi bhasha ki lipi kaun si hai के बारे मे विस्तार से जानकारी दी गई है।

पंजाबी भाषा की लिपि क्या है

आप सभी जानते है कि पंजाब (Punjabi bhasha ki lipi kya hai) की मुख्य भाषा पंजाबी भाषा है, पंजाबी भाषा की लिपि गुरमुखी लिपि है, पंजाबी भाषा को गुरमुखी लिपि में ही लिखा जाता है, पूरे देश मे पंजाबी भाषा को लिखने के लिए गुरमुखी लिपि का ही प्रयोग किया जाता है परंतु पाकिस्तान में पंजाबी भाषा लिखने के लिए शाहमुखी लिपि का प्रयोग किया जाता है। पंजाबी भाषा का निर्माण पंजाब में होने के कारण इसे पंजाबी भाषा कहा जाता है।

गुरमुखी का अर्थ क्या होता है

पंजाबी भाषा की लिपि गुरमुखी लिपि है, गुरमुखी लिपि का अर्थ होता है गुरु के मुख से निकली हुई वाणी। इस वाणी का अवतरण गुरु के मुख से होने के कारण इस लिपि का नाम गुरमुखी लिपि पड़ा था। और इसी गुरमुखी लिपि के द्वारा ही पंजाबी भाषा का निर्माण हुआ है। सिक्ख धर्म के गुरुओं ने इस लिपि का प्रचलन किया, इसी वजह से यह एक भारतीय लिपि बन गई। इस लिपि की शुरुआत गुरु अंगद देव जी ने किया था।

गुरमुखी मे कुल कितने वर्ण होते है?

गुरमुखी में कुल 35 अक्षर या वर्ण होते है इसलिए ही इसे 35 अखरी कहते है। पंजाबी लिपि में 3 स्वर ओर 32 व्यंजन होते है। अन्य स्वर बनाने के लिए तीनो स्वरों में मात्रा जोड़ कर अन्य मात्राएँ बनाई जाती है। गुरमुखी लिपि में कोई संयुक्त वर्ण नही होता है।

पंजाब का नाम पंजाब क्यो पड़ा?

मुख्य रुप सें पंजाब शब्द 2 शब्दो ‘पंज’ ओर ‘आब’ से मिल कर बना है जिसमे पंज का मतलब पांच ओर आब का मतलब दरिया या नदियां, अर्थात 5 नदियों या 5 दरियाव वाला स्थान होने के कारण इस का नाम पंजाब पड़ा। पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ है।
पंजाब अपने आप मे खुशहाल ओर समृद्ध राज्य है, यंहा का प्रमुख व्यवसाय कृषि है।

पंजाब में कौन कौन सी भाषा बोली जाती है?

मुख्य रुप से पंजाब राज्य में पंजाबी भाषा ही बोली जाती है, इसके साथ साथ कंही कंही बागड़ी, मलवई, मांझी, मालवी आदि बोलियां भी बोली जाती है। पंजाबी भाषा बोलने ओर समझने में बहुत आसान और सरल है जिसे आसानी से समझा और बोला जा सकता है।
भाषा का प्रयोग स्कूलों, कॉलेजो, कारखानों आदि में किया जाता है।

पंजाबी भाषा क्या है?

राज्य की मुख्य भाषा पंजाबी भाषा है, पंजाबी भाषा हिंदी के आर्य भाषा परिवार में आती है इस का निर्माण शौरसेनी अपभ्रंश के साथ उत्पन्न हुआ माना जाता है। पंजाबी भाषा के स्वर विधान ओर रूप विधान पर पाली भाषा और आर्य भाषा का प्रभाव है। पंजाबी भाषा पंजाब की संस्कृति को अपने आप मे सहेजे हुए है।

पंजाबी भाषा को कितने भागो में बांटा गया है?

भाषा को प्रमुख रूप से 4 भागो में बांटा गया है।

  • मांझी :- पंजाब में इस बोली का प्रयोग अमृतसर, पठानकोट, गुरदासपुर, पाकिस्तान के कुछ भागों में बोली जाती है।
  • मलवई :- यह पंजाब के कुछ भागों में बोली जाने वाली बोली है इस का प्रयोग पंजाब के दक्षिण भाग ओर पाकिस्तान के कुछ हिस्सों में किया जाता है। यह बोली राजस्थान, लुधियाना, बरनाला, फिरोजपुर, हरियाणा, फतेहाबाद आदि स्थानों पर बोली जाती है।
  • दुआबे :- दुआबे का अर्थ होता है 2 नदियों के बीच वाली भूमि। यह बोली दोआब में सतलज ओर व्यास नदियों के बीच वाले क्षेत्र में बोली जाती है। यह पाकिस्तान के कुछ हिस्सों में भी बोली जाती है।
  • पुआधी :- पोआध क्षेत्र में पुआधी बोली, बोली जाती है यह बोली कुराली, रोपड़, पायल, समराला आदि भागो में बोली जाती है।

पंजाबी भाषा की मुख्य विशेषता क्या है?

पंजाबी भाषा की मुख्य विशेषता यह है कि पंजाबी भाषा को तीन स्वर प्रणाली में बांटा गया है|

  1. उच्च स्वर
  2. मध्यम स्वर
  3. निम्न स्वर

1. मध्यम स्वर यह दो प्रकार के होते है|

  • शुद्ध मध्यम इसमें उन स्वरों को रखा जाता है जो पूर्णतया शुद्ध होते है।
  • तीव्र मध्यम जब कोई स्वर ज्यादा ही शुद्ध होता है तो उसे तीव्र मध्यम कहा जाता है।

2. उच्च स्वर उच्च स्वर वे स्वर होते है जिनका उच्चारण करते वक्त स्वर को ऊंचा रखा जाता है।
3. निम्न स्वर निम्न स्वर देवनागरी लिपि के स्वरों की तरह होते है इन्हे आसानी से समझा जा सकता है और आसानी से बोला जा सकता है।

ਹੋਲੀ ਦਾ ਲੇਖ | ਹੌਲੀ ਦਾ ਤਿਉਹਾਰ | Holi Essay in Punjabi

2 thoughts on “Punjabi bhasha ki lipi kya hai | पंजाबी भाषा की लिपि क्या है”

Leave a comment